Posts

Showing posts with the label इंसान

इंसान और इंसानियत

क्यों बदल गया है इंसान
क्यों खत्म हो गई इंसानियत
क्यों दया, प्रेम और मानवता खो गई

क्यों कर्म करते है धन के लिए
क्यों बदल गया है इंसान

भूले भटके  जब कभी सुनता पढ़ता हूँ खबर कोई अच्छाई की
तो मन खुश होता है कि इन्सानियत जिन्दा है

क्यों समाज के पटल की मानसिकता विकृत हो गई
भागम भाग की ज़िन्दगी में नहीं है समय परायो को छोड़ो अपनों के लिए

सब कुछ तोला जाता है पैसों से
सब  कुछ हो जाता है पैसों से
धर्म , न्याय और कर्म सब  होता है पैसों से

कर्म की परिभाषा है पैसा
मेहनत की परिभाषा है पैसा
बुद्धि  की परिभाषा है पैसा
ज्ञान की परिभाषा है पैसा
सब कुछ है पैसा

इसलिए बदल गया है इंसान
इसलिए खत्म हो गई इंसानियत